Sat. Mar 2nd, 2024

बोवनी के एक महीने बाद भी अंकुरित नहीं हुआ बीज ,किसानों ने कंपनी पर जुर्माना लगाने की मांग की, कलेक्टर से की शिकायत

बोवनी के एक महीने बाद भी अंकुरित नहीं हुआ बीज ,किसानों ने कंपनी पर जुर्माना लगाने की मांग की, कलेक्टर से की शिकायत

बैतूल। घोड़ाडोंगरी तहसील के ग्राम शक्तिगढ़, गोपीनाथपुर, लोनिया, सालीवाडा के किसानों ने बैतूल पहुंचकर नकली बीज विक्रय करने की शिकायत की है। आरोप है की उन्हें दिया गया बीज बोवनी के एक माह बाद भी अंकुरित नहीं हो सका है। जिससे उन्हें खासा नुकसान उठाना पड़ा है।

शिकायतकर्ता किसान नरेन हलदार ने बताया कि उन्होंने लगभग एक माह पहले 90 किलो फल्लीदाना बीज लिया था। लेकिन बोवनी के बाद बीज अंकुरित ही नहीं हुआ। इसके कारण काफी नुकसान हुआ है। अन्य किसानों ने बताया कि बादलपुर निवासी वीरेन्द्र सिंह की दुकान से उन्होंने बीज खरीदा था। बीज देते समय दुकानदार ने उन्हें कहा था कि बीज बहुत ही अच्छे हैं। लेकिन एक कंपनी का बीज अंकुरित ही नहीं हुआ। आरोप है की सभी किसानों को दुकानदार द्वारा नकली बीज थमा दिया गया। इस मामले में कलेक्टर ने जांच कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। किसानों ने कलेक्टर से उचित मुआवजा दिलाने की मांग की है।

शिकायतकर्ता किसान नरेन हलदार ने बताया कि 90 किलो फल्ली दाना का बीजा नगद 147 रु प्रति किग्रा की दर से क्रय किया था। बोवनी के 20 दिन बाद भी एक भी बीजा अंकुरित नहीं हुआ। इस मामले में दुकानदार का कहना है कि उसने बोवनी के लिए नहीं बल्कि खाने के उपयोग के लिए फल्ली दाना दिया था। अब किसान का कहना है कि मैं गरीब किसान एक साथ 10 किलो फल्लीदाना खाने के लिये कैसे खरीद सकता हूं।

सैंपल की रिपोर्ट आने तक दुकान से बिक जाता है नकली बीज

गौरतलब हैं कि खाद बीज को लेकर समय-समय पर कृषि विभाग अधिकारियों द्वारा खाद बीज के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे जाते हैं लेकिन तब तक डीलर नकली बीज किसानों को बेच देते हैं। इसके बाद सैंपल की रिपोर्ट आने पर और बीज नकली निकलने की पुष्टि होने पर कृषि विभाग द्वारा केवल दुकानदार पर ही जुर्माना लगाया जाता है लेकिन इससे किसानों को कोई लाभ नहीं मिल पाता है। वहीं किसान को नकली बीज मिलने पर उसका मुआवजा भी नहीं दिया जाता है।

कंपनी पर लगे जुर्माना

पीड़ित किसानों का कहना है कि वह अपनी फसल को लेकर चिंतित हैं। व्यापारी उनकी एक नहीं सुन रहा है। उन्होंने संबंधित अधिकारियों से इसकी जांच की मांग की है। अगर बीज गलत पाया जाता है तो संबंधित निर्माता कंपनी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। साथ ही नुकसान का मुआवजा देने की भी मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *